ताज़ातरीन न्यूज़

कल्लूरी की जगह जेल में थी, लेकिन भूपेश सरकार ने प्रतिष्ठित पद पर बैठा दिया, जरूरत पड़ी तो मैं दिल्ली में राहुल गांधी से मिलकर यह मुद्दा उठाऊंगा… स्वामी अग्निवेश

- विज्ञापन-

विवादित आईपीएस अफसर एसआरपी कल्लूरी को एसीबी व ईओडब्ल्यू के आईजी बनाए जाने के बाद भूपेश सरकर के इस फैसले पर सवाल उठना शुरू हो गया है | सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश ने आईपीएस कल्लूरी को आईजी बनाए जाने पर भूपेश सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा है कि एसआरपी कल्लूरी जैसे एक बदनाम और अपराधी किस्म के पुलिस अफसर को फिर से प्रतिष्ठा देकर जो नियुक्ति की है, उससे मुझे व्यक्तिगत रूप से बहुत दुख हुआ।

स्वामी अग्निवेश ने भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनने और उसके फैसले को लेकर जहा भूपेश सरकार की तारीफ की है, वही आईपीएस अफसर एसआरपी कल्लूरी को एसीबी व ईओडब्ल्यू के आईजी बनाए जाने पर अपना दुःख व्यक्त किया है | स्वामी अग्निवेश ने अपने बयान में कहा है कि एसआरपी कल्लूरी जैसे एक बदनाम और अपराधी किस्म के पुलिस अफसर को फिर से प्रतिष्ठा देकर जो नियुक्ति की है, उससे मुझे व्यक्तिगत रूप से बहुत दुख हुआ।

स्वामी अग्निवेश ने कहा कि बस्तर सुकमा से आगे डोलना पार में मेरे ऊपर जानलेवा हमला कराने के पीछे सबसे बड़ा हाथ एसआरपी कल्लूरी का था। इसके बाद मैंने तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह से इसकी शिकायत की थी, जिसके बाद उन्हें सरगुजा ट्रांसफर कर दिया था, फिर बाद में तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह ने दंतेवाड़ा के एसएसपी के बदले उन्हें पूरे बस्तर के पांचों जिलों का आईजी बना कर अत्याचार और अनाचार के लिए खुला छोड़ दिया था |
स्वामी अग्निवेश ने कहा है कि कल्लूरी को आईजी बनाए जाने पर इस मामले में बात करने के लिए वे दिल्ली राहुल गांधी के पास जाएंगे | इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भूपेश बघेल जो लगातार कल्लूरी को लेकर तीखे बयान देते रहे है, कल्लूरी को खिलाफ जांच के मांग करते रहे है, कल्लूरी को लेकर सरकार पर हमला बोलते रहे, वो भूपेश बघेल आज सरकार बनते ही भूपेश कैसे कल्लूरी को इतना महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौप दी है | जिनकी जगह में जेल में होनी चाहिए उसे उसे प्रतिष्ठित पद पर बैठा दिया।

स्वामी अग्निवेश ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि सीएम अपना फैसला वापस लेंगे और छत्तीसगढ़ के वातावरण को बिगड़ने से बचाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *