ताज़ातरीन द ब्यूरोक्रेट्स

गंदगी देख फावड़ा-तसला लेकर नाले में उतरे कलेक्टर….डिप्टी कलेक्टर, SDM, CMO ने ढोया नाली का मलवा….सीएम ने भी की तारीफ

जो काम समाज के लिए करना है, उसे समाज को साथ लेकर ही अच्छे से किया जा सकता है, अपने इसी सोच के साथ कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने समाज में एक नयी मिशाल पेश की है, लोगों को शहर की साफ सफाई के प्रति जागरूक करने के साथ ही शहर को स्वच्छ बनाने में उनके भी सहभागिता का संदेश देते हुए विदिशा कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह रोज सुबह खुद नालियों की सफाई करते है, कलेक्टर अपने हाथ में फावड़ा लेकर नालियों की सफाई करने के साथ ही वे नालियों से निकलने वाले कचरे को तसले में भरकर बाहर कचरा गाड़ी में खुद ही डालते हैं।

– विज्ञापन –

विदिशा कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह की इस पहल पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी उनकी जमकर तारीफ की है | सीएम कमलनाथ ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि विदिशा कलेक्टर और उनकी टीम द्वारा सफाई व्यवस्था को लेकर किया जा रहा कार्य सराहनीय और प्रशंसनीय है। यह दूसरों के लिए प्रेरक भी है। महात्मा गांधीजी भी कहते थे कि कोई कार्य छोटा नहीं होता है। ठान लिया जाए तो हर चीज संभव है।

- विज्ञापन-

बता दें कि मध्यप्रदेश के विदिशा जिले के कलेक्टर नालियों के सफाई करने के लिए खुद फावड़ा और तसला लेकर नाली पर उतर जाते है, साथ ही नालियों से निकलने वाले कचरे और गंदगी को तसले में भर कर खुद कचरा गाड़ी में डालते है, उनके साथ एसडीएम, डिप्टी कलेक्टर, सीएमओ ने भी नाले में जमा मलवा बाहर निकाला। अधिकारियों ने सिर्फ नाला साफ किया बल्कि वो नाले से निकला मलवा भी ढोते रहे।

कलेक्टर कौशलेंद्र सिंह का कहना था कि बारिश के पूर्व अभियान चलाकर शहर के नाले-नालियों को साफ किया जाएगा। जिसमें जनप्रतिनिधियों के अलावा क्षेत्र के रहवासी भी जनभागीदारी निभाएंगे। अब तक शहर के नाले नालियों की सफाई नहीं हो पाई है। जिसके कारण निचली बस्तियों में जलभराव का खतरा बना हुआ है। इसी स्थिति को देखते हुए कलेक्टर ने सफाई अभियान शुरू कराने के निर्देश दिए हैं। सफाई अभियान के पहले दिन कौशलेंद्र सिंह खुद सफाई अभियान में शामिल हुए।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कर्मचारियों को डांट डपटकर सिर्फ औसत दर्जे का काम लिया जा सकता है, मगर प्रोत्साहन और स्वयं की सहभागिता से भरपूर नतीजे निकाले जा सकते हैं। कौशलेंद्र ने कहा कि जो काम समाज के लिए करना है, उसे समाज को साथ लेकर ही अच्छे से किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *