ताज़ातरीन न्यूज़

किसानों के जेल जाने के बाद जागा पुलिस प्रशासन….DGP अवस्थी ने सभी SP को लिखा पत्र….लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने दिए निर्देश

- विज्ञापन-

डीजीपी डीएम अवस्थी ने प्रदेश के सभी एसपी को पत्र लिखकर लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वालो के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिए है |

डीजीपी अवस्थी ने पत्र में कहा है कि ऐसी घटनाएं लगातार प्रकाश में आ रही हैं, जिनमें प्रदेश में कुछ ऐसे ठग गिरोह एवं व्यक्ति सक्रिय हैं, जो किसानों को ऋण पत्र या अन्य माध्यम से ऋण दिलाये जाने का प्रलोभन देकर उनसे दस्तावेजों में अंगूठे का निशान या फिर हस्ताक्षर ले लेते हैं. ऐसे किसान सामान्य तौर पर कम पढ़े-लिखे या निरक्षर होते हैं, जो ऐसे व्यक्तियों के प्रलोभन से प्रभावित होकर ऋण दस्तावेजों में हस्ताक्षर कर देते हैं. इसके उपरांत इन ठग व्यक्तियों के द्वारा किसान की ऋण की सारी राशि हड़प ली जाती है या उन्हें ऋण राशि की कुछ छोटी-मोटी रकम दे दी जाती है. किसानों को वास्तविक ऋण की कोई जानकारी नहीं होती और भविष्य में यह ऋण राशि ब्याज के साथ काफी बड़ी राशि में बदल जाती है एवं संबंधित किसानों को ऋण के भुगतान हेतु संबंधित व्यक्ति-संस्था द्वारा नोटिस दिया जाता है तथा उनके विरूद्ध व्यावहारिक(दीवानी)/आपराधिक कार्यवाही की जाती है.

इसके साथ ही डीजीपी अवस्थी ने कहा है कि यह स्थिति अत्यधिक गंभीर है. इससे ग्रामीण क्षेत्र के भोले-भाले एवं कम पढ़े-लिखे, निरक्षर किसान गंभीर रूप से प्रभावित होते हैं. उन्होंने सभी पुलिस अधीक्षकों से कहा है कि थाना प्रभारियों को स्पष्ट निर्देश दिया जावे कि वे अभियान चलाकर ऐसे व्यक्तियों एवं गिरोह के विरूद्ध कठोर कार्यवाही करें एवं किसानों के द्वारा यदि इस तरह की कोई शिकायत थाने में प्राप्त होती है तो गंभीरतापूर्वक उसकी सूक्ष्म जांचकर त्वरित रूप से शिकायत पर वैधानिक कार्यवाही सुनिश्चित करे | इसके सार्थ ही डीजीपी ने इस तरह के मामले में की जाने वाली कार्रवाई कि जानकारी भी मांगी है |

बता दें कि पिछले दिनों बस्तर के दो किसानों को बैंक का कर्ज नहीं पता पाने के नाम से जेल भेज दिया गया था, इसके बॉस इस मामले को गंभीरता से लेते हुए डीजीपी अवस्थी ने लोन दिलाने के नाम से भोले-भाले किसानों से ठगी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश जारी किया है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *