द बाबूस न्यूज़द ब्यूरोक्रेट्स

IAS का इस्तीफा : कलेक्टरी से हटाने पर आईएएस ने दिया इस्तीफा, फेसबुक पोस्ट में झलका उनका दर्द”

Advertisement
Join WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

दौलत देसाई जो महारष्ट्र में मेडिकल एजूकेशन और मेडिसिन डिपार्टमेंट के संयुक्त निदेशक थे। उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। सोमवार को दौलत देसाई ने सिविल सर्विस से अपना इस्तीफा दे दिया है। वह साल 2008 बैच के आईएस अधिकारी थे। इस्तीफा देने के बाद देसाई ने सोशल मीडिया पर अपना दर्द सभी के सामने जाहिर किया। देसाई ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाली जिसमे उन्होंने लिखा है ,वो मेन स्ट्रीम से दरकिनार कर दिए जाने की वजह से काफी निराश महसूस कर रहे थे। एमईडीडी में ट्रांसफर होने से पहले वो कोल्हापुर के कलेक्टर थे और साल 2019 में आई बाढ़ के दौरान पश्चिमी महाराष्ट्र जिले को अपने कुशल नेतृत्व के जरिए उन्होंने संभाला था।

Advertisement

फेसबुक पोस्ट के जरिये जाहिर किया दर्द
देसाई ने इस्तीफा देने के बाद अपना गुस्सा सोशल मीडिया पर अपनी एक पोस्ट के जरिये सभी के सामने जाहिर करते हुए लिखा मैं आप सभी को सूचित कर रहा हूं कि मैंने इस्तीफा दे दिया है और अपनी मर्जी से एक भारतीय प्रशासनिक सेवा से बाहर निकल गया हूं। मैं सभी शक्ति, सुरक्षा और प्रतिष्ठा को पीछे छोड़ रहा हूं। अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहतर प्रयास कर रहा हूं। इस तरह से किनारे कर दिए जाने से काफी निराश था जबकि मैंने कलेक्टर और जिला मजिस्ट्रेट के तौर पर कोल्हापुर में चुनौतीपूर्ण काम किया था। ऐसे कार्यकाल के बाद भी किनारे कर दिया जाना ये निर्णय काफी निराशाजनक था जिसकी वजह से इस्तीफा देने का निर्णय लेना पड़ा। सिविल सर्विस ने उन्हें देश के लोगों की सेवा करने का शानदार अनुभव, पहचान और अवसर दिया।

IAS ट्रांसफर ब्रेकिंग : सिद्धार्थ परदेशी होंगे सीएम भूपेश बघेल के नए सचिव, 13 IAS अफसरों के प्रभार बदले, देखिए पूरी सूची
READ

अगर जनहित दांव पर हो तो कभी समझौता नहीं किया
आईएएस दौलत देसाई ने लिखा, मैं बहुत भाग्यशाली था क्योंकि बहुत कम लोगों में से किसी एक को ये मौके मिलते हैं। यह एक संतोषजनक और रोमांचकारी यात्रा थी जो आश्चर्य और सफलताओं से भरी हुई थी। उन्होंने आगे बताया, अगर जनहित दांव पर है तो उन्होंने कभी समझौता नहीं किया। सामाज में पद और प्रतिष्ठा से मजबूत ताकतवर लोगों की अनदेखी करते हुए मैंने हमेशा कमजोर और जरूरतमंदों की आवाज सुनी। कई बार मुझे असंतुष्ट लोगों की आलोचनाओं का सामना भी खुशी-खुशी करना पड़ा। मैंने समाज की बेहतरी के लिए जो कुछ हो सकता था किया।

साथ देने वालों के हैं कर्जदार
आईएएस अधिकारी ने बताया कि वह उन लोगो के हमेशा कर्जदार रहेंगे जिन्होंने उनकी ईमानदारी का समर्थन किया और उनकी सराहना की। उन्होंने आगे लिखते हुए बताया कि यह आईएएस की ‘आभा’ को छोड़ने और एक ‘आम आदमी’ बनने और बाहरी दुनिया में संघर्ष करने का समय है। उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लिखा, मैं खुश और संतुष्ट हूं, अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं है।

14 साल का था करियर
उन्होंने आगे कहा, मैंने अपने 14 साल के करियर के दौरान आईएएस अधिकारी ने पुणे जिला परिषद के निदेशक, आपदा प्रबंधन और सीईओ के रूप में भी काम किया। वरिष्ठ नौकरशाह, एमईडीडी में स्थानांतरित होने से पहले, कोल्हापुर के कलेक्टर थे और साल 2019 में आई बाढ़ के समय उन्होंने अपने कुशल नेतृत्व के जरिए स्थिति को संभाला था।”,

Advertisement
Back to top button