द बाबूस न्यूज़
Trending

ACB का DSP गिरफ़्तार : भाषण देते हुए DSP बोला “कोई घुस मांगे तो 1064 पर कॉल करे”, अपने काम के प्रति ईमानदार रहना चाहिए…..1 घंटे बाद खुद 80 हजार रुपये घुस लेते गिरफ्तार

कुछ लोग होते हैं ना ज्ञान देते हैं कि शराब नहीं पीनी चाहिए, नॉनवेज नहीं खाना चाहिए लेकिन जब मौका मिल जाए तो खुद दबाकर खाते-पीते हैं. ऐसे ही एक शख्स को पकड़ा गया है जो ज्ञान तो बहुत देता था लेकिन पीछे से वही काम करता था. ये मामला है एंटी करप्शन ब्यूरो के डीएसपी का जो लोगों को सिखाते ये हैं कि घूस मत लो या घूस मांगे तो कैसे पकड़ो लेकिन खुद घूस लेते धरा गए. दरअसल हुआ यूं कि हाल ही में अंतराष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक दिवस के मौके पर राजस्थान के माधोपुर में एक कार्यक्रम किया गया, चीफ गेस्ट बनकर आए एंटी करप्शन ब्यूरो के डीएसपी भैरुलाल मीणा.

जोरदार भाषण दिया कि हमें देश से भष्टाचार मिटाना है. कोई भी कर्मचारी घूस मांगे तो 1064 पर फोन करो. तुरंत एक्शन होगा. डीएसपी साहब के भाषण पर जोरदार तालियां बजीं. कार्यक्रम के एक घंटे बाद डीएसपी साहब को उन्हीं के विभाग ने 80 हजार रूपये की घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया. इसके साथ ही एसीबी ने उनको घूस की मासिक किश्त देने आए जिला परिवहन अधिकारी यानी डीटीओ को भी गिरफ्तार किया. दोनों से पूछताछ जारी है. यही नहीं, दोनों से पूछताछ के आधार पर महीने की घूस खाने वाले बाकी अधिकारियों के भी नाम पते निकलवाए जा रहे हैं.

जानकारी के मुताबिक डीएसपी साहब की दो महीने से विभाग को शिकायतें मिल रही थी कि डीएसपी साहब हर महीने घूस लेते हैं. डीएसपी साहब का घूस लेने का भी नायाब तरीका था. वो घूस लेने जाते नहीं थे बल्कि लोग खुद उन्हें घूस देने दफ्तर पर आते थे. बताया जा रहा है कि विभाग की अपने ही अफ्सर पर काफी पहले से नजर थी. करौली से एसीबी की टीम ने उस वक्त डीएसपी साहब को रंगे हाथों पकड़ लिया जब वो डीटीओ महेश चंद्र मीणा से 80 हजार रूपये की घूस ले रहे थे. इसके बाद डीएसपी मीणा के घर की तलाशी हुई तो वहां जमीन के कई काजगात के साथ 1.61 लाख रूपये कैश बरामद हुए.

Sahu Ashish

आशीष साहू ने लिखने-पढ़ने की अपनी अभिरुचि के चलते पत्रकारिता का रास्ता चुना। पत्रकारिता में डिप्लोमा हासिल करने के बाद जुलाई 2012 में दैनिक हिंदी हरिभूमि में बतौर ट्रेनी सब एडिटर दाखिला हो गया | वहां के बाद अक्टूबर 2016 से सीजी न्यूज़ 24 डॉट कॉम टीम का हिस्सा बन गए। यहां फिलहाल संपादक के पद पर तैनाती है। बिलासपुर के रहने वाले हैं और शुरुआती पढ़ाई वहीं हुई। गुरु घासीदास विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर में स्नातक की डिग्री है। साहित्यिक अभिरूचियां हैं। कविता-उपन्यास पढ़ना पसंद है। इतिहास के विषय पर बनी फिल्में देखने में दिलचस्पी है। थोड़ा-बहुत गीत-संगीत की दुनिया से भी वास्ता है।
Back to top button
close