द बाबूस न्यूज़द ब्यूरोक्रेट्स

इस महिला IAS ने लिया VRS, 1997 बैच की है IAS अफसर, जानिए क्या है वजह

उत्तराखंड में आईएसएस अधिकारियों के लिए बाकी राज्यों के मुकाबले माहौल काफी बेहतर माना जाता है. जी हां, उत्तराखंड की वादियों में काम के साथ सुकून हर किसी को पसंद आता है. इसलिए रिटायरमेंट के बाद भी मुख्य सचिव रैंक के अधिकारी उत्तराखंड नहीं छोड़ना चाहते हैं, लेकिन सीनियर आईएएस उमाकांत पंवार के बाद अब सीनियर महिला आईएएस भूपिंदर कौर औलख ने ये भी वीआरएस का फैसला लिया है.

उत्तराखंड कैडर की 1997 बैच की आईएएस हैं औलख

उत्तराखंड कैडर की 1997 बैच की आईएएस भूपिंदर कौर औलख ने वीआरएस ले लिया है. राज्यपाल की तरफ से वीआरएस मंजूर होने के बाद अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने नोटिफिकेशन जारी किया. हालांकि भूपिंदर कौर औलख की अभी 10 साल की सर्विस बाकी थी, लेकिन अब वो वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन में सेवा देंगी. जबकि औलख का अगला ठिकाना बांग्लादेश की राजधानी ढाका होगा जहां वह वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन में डिप्टी हेड का चार्ज संभालेंगी. उनका यह कार्यकाल दो साल का होगा.

ये है वजह
अपर मुख्य सचिव कार्मिक की तरफ से स्पेशल सेक्रेटरी भारत सरकार को लिखे पत्र के मुताबिक, कोरोना संकट में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन बांग्लादेश में बतौर डिप्टी हेड उनकी सेवाएं चाहता है और उन्हें 30 अप्रैल 2020 से अपनी ज़िम्मेदारी संभालनी थी, लेकिन अब वो 15 मई के बाद बांग्लादेश में काम कर सकेंगी.

यहां तैनात रहीं है भूपिंदर कौर औलख
उत्तराखंड कैडर की 1997 बैच की आईएएस भूपिंदर कौर औलख इस वक्त सिंचाई विभाग में सचिव के पद पर तैनात थीं. जबकि इससे वह पहले शिक्षा और खेल विभाग की सचिव रह चुकी हैं. आपको बता दें कि आईएएस भूपिंदर कौर औलख का प्रमोशन प्रमुख सचिव पद पर होना था और इसके बाद उन्हीं के बैच के आर के सुधांशु और एल फनाई का नंबर है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close