पॉलिटिकल कैफेहल्लाबोल

दो दशक बाद गैर गांधी के हाथ होगी कांग्रेस की कमान! पार्टी की बैठक जारी लेकिन बाहर आए सोनिया-राहुल, कहा – हम इसमें शामिल नहीं…नया अध्यक्ष चुनने के लिए कांग्रेस ने बनाई 5 टीम, ये नेता सबकी पसंद

करीब दो दशक बाद देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस की कमान गांधी परिवार के हाथ से छूटेगी। कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक पार्टी मुख्यालय में जारी है और इसमें फैसला हुआ है कि पार्टी अध्यक्ष चुनने के लिए पांच समूह बनेंगे। जहां इसे लेकर बैठक जारी है वहीं सोनिया गांधी और राहुल गांधी बैठक से बाहर आ गए हैं।

इस पर जब मीडिया ने सोनिया गांधी से बात की तो उन्होंने कहा कि वो बैठक से बाहर क्यों आए तो उन्होंने कहा कि बैठक में नए अध्यक्ष को लेकर चर्चा हो रही है और हम इसमें शामिल नहीं होगी।

बैठक में कांग्रेस अपना नया अध्यक्ष चुन लेगी या फिर राहुल गांधी के उत्तराधिकारी की तलाश अभी और लंबी होगी यह तस्वीर साफ हो जाएगी। आज अगर कुछ तय नहीं होता है तो कल फिर यह बैठक होगी। माना जा रहा है कि पिछले ढाई महीने से नए नेतृत्व का चेहरा तय करने की जारी सियासी चुनौती से निपटने की पहली कोशिश में संभवतः अपना अंतरिम अध्यक्ष तो चुन ही लेगी।

सूत्रों के मुताबिक गांधी परिवार मध्य आयु वर्ग के किसी ऐसे शख्स को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष चुनना चाहती है जिसे संगठन चलाने का अनुभव हो, इस लिहाज से मुकुल वासनिक अंतरिम अध्यक्ष की रेस में अपने प्रतिद्वन्दियों सुशील शिंदे और मल्लिकार्जुन खड़गे से आगे निकल जाते हैं. मुकुल वासनिक सबसे लंबे समय तक लगातार कांग्रेस महासचिव रहे हैं. इसके अलावा मुकुल वासनिक राजीव गांधी फाउंडेशन के भी सदस्य रहे हैं, इससे साफ होता है कि वह गांधी परिवार के बेहद करीबी हैं |

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद कांग्रेस कार्यसमिति को क्षेत्रवार पांच जोन में बांटा गया है. इस जोन के नेता अध्यक्ष पद को लेकर कांग्रेस विधायक दल के नेता, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद और सचिवों से बात करेंगे. इस चर्चा के बात के बाद कांग्रेस के अंतरिम अध्यक्ष का ऐलान किया जाएगा |कांग्रेस द्वारा बनाए गए ईस्ट जोन में सोनिया गांधी जबकि वेस्ट जोन में राहुल गांधी का नाम है, सोनिया गांधी ने इसी जोन में नाम डाले जाने पर आपत्ति जताई है |

दो दशक बाद गैर गांधी के हाथ होगी कांग्रेस की कमान

सीताराम केसरी को हटाए जाने के बाद मार्च 1998 में सोनिया गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष की कमान संभाली थी और दिसंबर 2017 तक करीब 20 वर्षों तक पार्टी की कमान उनके हाथ में रही । जबकि राहुल गांधी का कार्यकाल महज 20 महीने का ही रहा है । अगर गांधी परिवार से बाहर का कोई व्यक्ति अध्यक्ष चुना गया तो दो दशक बाद किसी गैर गांधी के हाथ में फिर कांग्रेस की कमान होगी ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close