देश - विदेश
Trending

ब्रेकिंग : नक्सलियों ने अपह्रत CRPF जवान की फोटो की जारी, कल ही नक्सलियों का कथित पत्र आया था सामने, अगवा जवान की रिहाई के लिए मध्‍यस्‍थ तय करने की कही बात….इधर अपह्रत जवान को छुड़ाने सोनी सोरी और पत्रकार हुए रवाना

नक्सलियों ने अगवा किए गए कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह की पहली तस्वीर जारी की है । इस तस्वीर के साथ ही नक्सलियों ने ये संकेत दिए हैं कि अगवा जवान उनके कब्जे में सुरक्षित है । वहीं अपह्रत जवान राकेश्वर सिंह को छुड़ाने सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी और पत्रकार रवाना हो गए हैं, दल नक्सलियों की मांद में घुसकर जवान को छोड़े जाने की अपील करेगा, दल में जेल बंदी रिहाई समिति के सदस्य और स्थानीय पत्रकार शामिल हैं |

बता दें कि बीजापुर के तर्रेम मुठभेड़ के दौरान ही नक्सलियों ने कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह का अगवा कर लिया था। वहीं इसकी जानकारी नक्सलियों ने आईबीसी24 के संवाददाता राजा राठौर को फोन कर दी थी। बताया था कि जवान उनके कब्जे में सुरक्षित है। वहीं आज पांचवें दिन नक्सलियों ने अगवा जवान की पहली तस्वीर जारी की है । तस्वीर में जवान सुरक्षित बैठा हुआ नजर आ रहा है ।

बता दें कि छत्तीसगढ़ के बीजापुर में हुई नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बल का एक जवान लापता है, नक्सलियों ने दावा किया है कि जवान उनके कब्जे में सुरक्षित हैं, कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मनहास 3 अप्रैल को हुई मुठभेड़ के बाद से लापता हैं, नक्सलियों के कथित प्रवक्ता के हवाले से बीते मंगलवार को एक पत्र जारी किया गया है, इसमें उन्होंने दावा किया है कि वो जवान को छोड़ देंगे, लेकिन इसके लिए सरकार किसी मध्यस्थ को बातचीत के लिए नियुक्त करे. हालांकि, मंगलवार को ही बस्तर के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जवान को छोड़ने को लेकर बात की थी, लेकिन इसके बाद नक्सलियों की ओर से जारी पत्र में मध्यस्थों के माध्यम से ही जवान को छोड़ने की बात कही गई है |

भाकपा (माओवादी) दंडकारण्य के विशेष ज़ोनल कमेटी के प्रवक्ता विकास की ओर से पत्र के माध्यम से बयान जारी किया गया है. उसमें कहा गया है कि मुठभेड़ के दौरान जवान को बंधक बना लिया गया था. जवान सुरक्षित है और हम उसे पुलिस को सौंप देंगे, लेकिन उसकी रिहाई के लिए मध्‍यस्‍थों को नामित किया जाए.’ जवान की पत्नी मीनू और परिवार के अन्य सदस्यों ने जवान को जल्द छोड़ने की अपील की है |

मुठभेड़ में मारे गए 5 नक्सली
नक्सलियों की ओर से जारी पत्र में दावा किया गया है कि तर्रेम थाना क्षेत्र में 3 अप्रैल को हुई मुठभेड़ में उनके 5 साथी मारे गए हैं. इनमें एक महिला कैडर भी शामिल है. इसके साथ ही उन्होंने 14 एके-47, करीब 2000 कारतूस भी जवानों से लूटने का दावा किया है. बता दें कि इस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों के 22 जवान शहीद, 31 घायल हो गए हैं, जबकि 1 जवान लापता है. लापता जवान के संबंध में बस्तर आईजी का भी एक बयान सामने आया है. आईजी सुंदराज पी ने कहा कि आरक्षक राकेश्वर सिंह मनहास का लोकेशन नही मिल पा रही है. उसकी पतासाजी के लिए लगातार सर्चिंग अभियान के साथ-साथ क्षेत्र के ग्रामीण, सामाजिक संगठन, स्थानीय जनप्रतिनिधिगण एवं पत्रकार साथियों के माध्यम से भी आरक्षक राकेश्वर सिंह मनहास के संबंध में पतासाजी की जा रही है. इस दौरान सीपीआई माओवादी के दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के प्रवक्ता का जारी एक प्रेस नोट में लापता एक जवान को बंदी बनाकर रखा जाना लेख की गई है. पुलिस द्वारा उक्त प्रेस नोट के संबंध में इसकी वास्तविकता की तस्दीक की जाकर उचित निर्णय लिया जाएगा.

Sahu Ashish

आशीष साहू ने लिखने-पढ़ने की अपनी अभिरुचि के चलते पत्रकारिता का रास्ता चुना। पत्रकारिता में डिप्लोमा हासिल करने के बाद जुलाई 2012 में दैनिक हिंदी हरिभूमि में बतौर ट्रेनी सब एडिटर दाखिला हो गया | वहां के बाद अक्टूबर 2016 से सीजी न्यूज़ 24 डॉट कॉम टीम का हिस्सा बन गए। यहां फिलहाल संपादक के पद पर तैनाती है। बिलासपुर के रहने वाले हैं और शुरुआती पढ़ाई वहीं हुई। गुरु घासीदास विश्वविद्यालय से कम्प्यूटर में स्नातक की डिग्री है। साहित्यिक अभिरूचियां हैं। कविता-उपन्यास पढ़ना पसंद है। इतिहास के विषय पर बनी फिल्में देखने में दिलचस्पी है। थोड़ा-बहुत गीत-संगीत की दुनिया से भी वास्ता है।
Back to top button
close