द बाबूस न्यूज़ बाबूस ऑफ़ छत्तीसगढ़

….पूर्व सरकार के सुकुमार रहे राजेश टोप्पो का एक और कारनामा आया सामने, तत्कालीन CM के OSD पर बरसाते रहे कृपा

बीजेपी सरकार में अफसरों की किस तरह मौज थी उसकी बानगी एक बार फिर सामने आई है. पूर्व जनसंपर्क अधिकारी रहे राजेश टोप्पो का सरकारी पैसे पर यात्राएं और फाइव स्टार होटल में ठहरने के खुलासे के बाद एक और अधिकारी की यात्राओं का चौंकाने वाला मामला आया है, सबसे बड़ी बात यह है कि जिस अधिकारी की यात्राओं का मामला आया है, उसका संबंध जनसंपर्क विभाग से बिल्कुल नहीं है उसके बावजूद जनसंपर्क ही उनकी यात्राओं के बिल का भुगतान किया, इस पूरे मामले का खुलासा आरटीआई एक्टिविस्ट उचित शर्मा ने किया है, जिनमें इन यात्राओं से जुड़े दस्तावेज शामिल हैं ।

– विज्ञापन –

बात है पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह के ओएसडी रहे अरुण बिसेन की. बिसेन पूर्व सरकार के ताकतवर अधिकारियों में शुमार रहे हैं. अरुण बिसेन ने सरकारी खर्चे पर रायपुर से दिल्ली और दिल्ली से अमृतसर आने जाने के लिए बुक किया गया था, उनकी इन यात्राओं के टिकट की बुकिंग जनसंपर्क अधिकारी राजेश सुकुमार टोप्पो ने सतगुरु ट्रेव्हल्स के माध्यम से की. उनकी ये यात्राएं साल 2016 में 26 और 27 अक्टूबर की है, जिसका बिल 22566 रुपये हुआ. इस बिल का भुगतान जनसंपर्क विभाग द्वारा किया गया, जबकि बिसेन सामान्य प्रशासन विभाग के अंतर्गत आते हैं ।

- विज्ञापन-

पंजाब की सरकारी यात्राएं क्यों
उचित शर्मा ने अरुण बिसेन की पंजाब की यात्राओं के सरकारी भुगतान पर सवाल उठाया है उन्होंने कहा कि बिसेन जब संवाद के अधिकारी नहीं थे तो फिर उनकी यात्राओं के बिल का भुगतान संवाद ने क्यों किया? उन्होंने यह भी सवाल उठाया है कि पंजाब से पूर्व सरकार का किसी तरह का कोई रिश्ता नहीं था फिर पूर्व सीएम के ओएसडी ने सरकारी खर्चे पर पंजाब और दिल्ली की यात्राएं क्यों की।

सतगुरु ट्रेव्हल्स पर मेहरबानी
उचित शर्मा ने पिछली सरकार के अधिकारियों पर कमीशनखोरी का आरोप लगाया है, उन्होंने कहा कि सतगुरु ट्रेव्हल्स पर पिछली सरकार काफी मेहरबानी रही है. उसी ट्रेव्हल्स को ही सारे काम दिये जाते थे, क्या प्रदेश में और कोई एजेंसी नहीं थी, उन्होंने आरोप लगाया है कि अधिकारियों की ट्रेव्हल्स एजेंसी से कमीशनखोरी के लिए सेटिंग थी, जिसकी वजह से सतगुरु को ही काम दिया जाता था, उचित शर्मा ने संवाद की जांच की मांग की है, उनका कहना है कि पिछली सरकार में संवाद ने जो-जो भुगतान किये हैं उनकी जांच होनी चाहिए. उनकी जांच होगी तो कई बड़े खुलासे हो सकते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *