द बाबूस न्यूज़ द ब्यूरोक्रेट्स

IAS अवनीश शरण के बाद एक और IAS ने पेश की मिशाल….इस महिला कलेक्टर ने तमाम मशहूर स्कूल को छोड़कर अपनी बच्ची का एडमिशन आंगनबाड़ी में कराया, पढ़िए पूरी खबर

- विज्ञापन-

छत्तीसगढ़ के आईएएस अवनीश कुमार शरण के बाद देश के एक और आईएएस अफसर ने मिसाल पेश करते हुए अपनी बेटी को किसी प्राइवेट प्ले स्कूल में भेजने के बजाय सरकारी आगनबाड़ी स्कूल में दाखिल कराया है | तमिलनाडू तिरुनेलवेली जिले की कलेक्टर शिल्पा प्रभाकर अपनी बच्ची का दाखिला आंगनबाड़ी में कराया है, कलेक्टर ने कहा कि आगनबाड़ी बच्चों के विकास का केंद्र होता है, जो उनका सेहत का ख्याल रखते है |
आने वाले कल के लिए एक नयी सोच के साथ एक नयी कदम उठाने वाली तमिलनाडू तिरुनेलवेली जिले की कलेक्टर शिल्पा प्रभाकर सतीश ने अपनी बेटी का एडमिशन अपने जिले के ही एक सरकारी आगनबाड़ी केंद्र में की है | 2009 आईएएस ऑफिसर बैच की शिल्पा प्रभाकर जिले की पहली महिला कलेक्टर हैं और वह आंगनवाड़ी को काफी सपोर्ट करती हैं ।
कलेक्टर शिल्पा प्रभाकर के अनुसार तिरुनेलवेली में करीब हजार आंगनवाड़ी हैं, और इन सभी में अच्छे टीचर्स हैं, जिन्हें बच्चों की देखभाल करना बखूबी आता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं चाहती हूँ कि मेरी बेटी समाज के हर वर्ग को समझे और जल्द ही तमिल भाषा भी सीख ले |
अपने जिले के आंगनबाड़ियों की जानकारी देते हुए कलेक्टर शिल्पा ने बताया कि आंगनवाड़ी टीचर्स स्मार्टफोन में एक ऐप के जरिए सेंटर के बच्चों का हेल्थ रिकॉर्ड अपने पास रखते हैं । बच्चे जब स्कूल पढ़ने जाते हैं तो ये हेल्थ डीटेल्स स्कूल में दी जाती है ।
आईएएस शिल्पा ने बताया कि एक आगनबाड़ी केंद्र उनके घर के पास है, जहां उनकी बेटी आगनबाड़ी जाकर वहां के बच्चों के साथ खेलती है | इसके साथ ही उन्होंने कहां कि अगर सरकारी संस्थाओं को हम सरकारी लोग प्रमोट नहीं करेंगे तो कौन करेगा |
बता दें कि छत्तीसगढ़ के रायपुर में निगम आयुक्त, बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में कलेक्टर और कवर्धा में कलेक्टर होने के दौरान अवनीश कुमार शरण ने अपनी बेटी की शुरुआती शिक्षा आंगनबाड़ी में और उसकी आगे की पढ़ाई के लिए सरकारी स्कूल में दाखिला कराया है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *