बात-बतंगड़ बातें विथ आशीष

जो मेरी तारीफ करते थे वे अब घबराहट में षड़यंत्र कर रहे, मेरी लड़ाई सत्ता के घमंड, अहंकार और भ्रष्टाचार से : शैलेश

- विज्ञापन-

निजी क्षेत्र में उच्च शिक्षा के कुशल नेतृत्व कर्ता स्वच्छ छवि और विनम्र व्यवहार के लिए पहचाने जाने वाले कांग्रेस नेता शैलेश पांडेय का दृष्टिकोण स्पष्ट है। वे समाज के हर विषय पर अपनी मौलिक राय रखते हैं, राजनीति उनके लिए व्यवसाय नहीं एक उद्देश्य है नई पीढ़ी को बेहतर दिशा देने का।इसी उद्देश्य से वे इन दिनों राहुल गांधी के विजन को जन-जन तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं ।उनके जन्मदिन के अवसर पर सीजी न्यूज़ 24 ने विस्तृत चर्चा की। प्रस्तुत हैं चर्चा के महत्वपूर्ण अंश –
– अपने बारे में कुछ बताइये, जीवन मे बदलाव कैसा लग रहा है ?
शैलेश – मेरे अंदर देशभक्ति की भावना जन्म से ही थी, यही भावना राजनीति में लेकर आई है। अपना प्रेरणास्रोत जगतगुरु शंकराचार्य को मानता हूँ, जिन्होंने स्वयं भारत की कल्पना की, जैसा भारत को होना चाहिए, वैसा देश नहीं हो पा रहा है | देश में बुराई और झूठ का बोलबाला है, अच्छाई का दमन किया जा रहा है | इन सब बातों की चिंगारी मेरे अंदर है और बेहतर समाज, प्रदेश, देश की कल्पना मेरे अंदर है | जिसको करने के लिए मैं अपना पूर्ण योगदान दूंगा |

 

– यही तलाश आपको राजनीतिक गलियारों में ले आयी?
शैलेष- हां, समाज सेवा के माध्यम से लोगों के जीवन में बड़ा बदलाव लाया जा सकता है, लेकिन निर्णायक कामों, जैसे पानी, बिज़ली या फिर भ्रष्टाचार आदि की समस्याओं से निपटने के लिये राजनीति ही सबसे जरूरी माध्यम है ।

– अपनी शिक्षा दीक्षा के बारे में बताइये ?
शैलेष- बेसिक शिक्षा के बाद मैंने तकनीकी शिक्षा में ग्रेजुएशन रायपुर स्थित रविशंकर विश्वविद्यालय से किया | जिसके बाद से छत्तीसगढ़ की सेवा कर रहा हूँ | प्रदेश में शिक्षा के माध्यम से कई बड़े – छोटे शहरों में कार्य किया और शिक्षा की आवश्यकता को समझा | छत्तीसगढ़ में ना केवल शिक्षा बल्कि सामाजिक रूप से, धार्मिक रूप से, खेलकूद, संस्कृति सभी क्षेत्रों से जुड़कर अपना योगदान और सहयोग किया | रोजगार और स्वरोजगार के लिए छत्तीसगढ़ के गांव-गांव तक घूमा, ग्रामीण प्रतिभाओं को भी तैयार कर दिशा प्रदान की | इस दौरान कई संस्थानों के उच्च पदों पर बैठकर जिम्मेदारी का निर्वहन किया |
– आपके जीवन का लक्ष्य क्या है ?
शैलेष- मेरी जिंदगी का लक्ष्य किसी भी माध्यम से समाज से जुड़े रहना और उनकी सेवा, सहयोग करना है | हमेशा से पाजिटिव करने की ललक मन में रही है, हमेशा लगता है कुछ और बेहतर करना है, यह जज्बा पूरी उम्र मेरे साथ रहा है और शिक्षा और समाज के लिए बेहतर करने के लिए लगातार प्रयास कर रहा हूँ |
– समाज सेवा की प्रेरणा कहां से मिली आपको ?
बचपन से ही अध्यात्म से जुड़ा रहा हूं । लोगों की तकलीफों को समझने की शुरुआत वहीं से हो गयी थी, जगतगुरु शंकराचार्य से जुड़ने के बाद तो सेवा भाव और बढ़ गया। लोगों को करीब से समझा तो जाना काफी काम करना है समाज के लिये । बस अब उसी दिशा में सफ़र आगे बढ़ गया ।

 

– आप शिक्षा क्षेत्र से सीधे राजनीति में आ गए, कुछ असहज नहीं लगता?
शैलेश – कांग्रेस ने मुझ पर भरोसा जताया और नयी जिम्मेदारी दी है । मैं पूरी तरह इसे निभा रहा हूं और इतने कम समय में ही बिलासपुर और कोटा के लोगों मुझे बढ़-चढ़ कर सहयोग दिया है । कांग्रेस पार्टी और बड़े नेताओं ने जो भी मेरे अंदर देखा होगा, उसके अनुसार मुझे दायित्व दिया | मैं उस जिम्मेदारी को पूरी तरह से निभाने का प्रयास कर रहा हूँ | अपने जीवन को खतरों से बिना डरे मैं कांग्रेस की एक सिपाही की तरह मजबूती से डटा हूँ | एक उच्च स्तरीय पद को त्याग कर कांग्रेस पार्टी के माध्यम से देश की सेवा कर रहा हूँ |
– राजनीति के क्षेत्र में आप कहां काम करना चाहते हैं ,आगे चलकर कार्यक्षेत्र किस क्षेत्र को बनाना चाहेंगे ?
शैलेश – मैं सामान्यतः बिलासपुर और कोटा में अधिक सक्रिय रहता हूँ | प्रदेश प्रवक्ता होने के नाते मेरा दायित्व बड़ा है, इसलिए अन्य क्षेत्रों के मुद्दों को भी पूरी प्राथमिकता के साथ ध्यान देता हूँ | पार्टी जो भी जवाबदारी, जहाँ से भी देती है, वो मुझे स्वीकार्य रहा है, आगे स्वीकार्य रहेगा |
– क्या आपको राजनीति में कोई बुराई नजर नहीं आती?
समाज में किसी क्षेत्र के दो-चार व्यक्तियों और घटनाओं को लेकर ही धारणा बनाने की पहल होती है । कभी-कभी धारणा बनाने में हम जल्दबाजी भी कर लेते हैं । राजनीति के प्रति जो धारणा बनी है, वह गलत नहीं है । ऐसे लोगों का राजनीति में प्रवेश हो चुका है, जिनका लक्ष्य राजनीति कीे आड़ में भ्रष्टाचार और व्यापार करना है | ऐसे लोगों ने राजनीति को बदनाम भी किया है । राजनीति में अपना नहीं, जनता का हित देखना होता है । हजारों लोग आपको अपना प्रतिनिधि मानकर आपका चयन करते हैं, आप उन्ही से विश्वासघात करने लग जाते हैं, यह समाज के लिए अहित है | ऐसे लोगों को राजनीति में रहने का बिलकुल भी हक़ नहीं है |
– राजनीति प्रवेश के बाद आपके ऊपर लगातार सीवीआरयू में रजिस्ट्रार पद पर पदस्थ होने के दौरान फर्जी डिग्री बांटने का आरोप लगता रहा है? इस बात में कितनी सच्चाई है?
शैलेश – जिन लोगों ने ये आरोप मुझ पर लगाएं हैं, वे लोग कई बार विवि आकर बड़े-बड़े कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि बने और विवि की कार्यशैली की प्रशंसा की | वही लोग मेरे राजनीतिक जुड़ाव और प्रवेश से डरकर मेरी छवि को धूमिल करने का षड़यंत्र करते रहते हैं | मैं जानता हूँ मैंने कोई गलत कार्य नहीं किया, झूठी शिकायतों की जाँच काई बार कार्रवाई जा चुकी है | आरोप लगाने वाले अपने आका के निर्देश पर झूठ बोलकर छवि ख़राब करने का प्रयास करते हैं, लेकिन इन सब बातों से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है | जनता सब समझती है, जनता जानती है की किसका हाथ फर्जीवाड़ा में डूबा हुआ है | आरोप लगाने वाले खुद अपने गिरबान में झांककर देखे कि वो खुद कितने काले हो चुके हैं | लज्जाहीन और स्तरहीन लोगों का मैं जवाब देना उचित नहीं समझता |- छत्तीसगढ़ की राजनीति को लेकर आपका क्या विचार है, भाजपा 15 सालों से सत्ता पर है, कांग्रेस जोर आजमाईश कर रही है | क्या जनता बदलाव के मूड में है?शैलेश – आपने बिलकुल सही कहा, जनता अब बदलाव के मूड में है | केंद्र और राज्य के भाजपा सरकार का वास्तविक चेहरा उजागर हो चुका है | रमन सरकार का भ्रष्टाचार, घमंड, अहंकार, का अंत इस बार जनता करने वाली है | बीजेपी से हर वर्ग नाराज हो चुका है, इनकी कार्यशैली से हर कोई पीड़ित है | कुछ लोगों और वर्ग को फायदा देने के अलावा बाकी सभी असंतुष्ट हैं | किसान, आदिवासी, शिक्षाकर्मी से लेकर आम आदमी त्रस्त हो चुका है | 15 सालों में छत्तीसगढ़ को प्रचुर धन संपदा का क्षेत्र होने के बावजूद कंगाल और खोखला बना दिया है | 24 लाख युवा बेरोजगार हैं | नक्सल समस्या और बढ़ गई है | मंहगाई ने कमर तोड़ डाली है | इंफ्रास्टक्चर के नाम पर केवल भ्रष्टाचार किया जा रहा है | शराब बेचना इनकी प्राथमिकता बन गया और 10 हजार करोड़ का बजट इनकी शराब को खोलने के लिए रखा गया | प्रदेश के युवाओं को नशे के धंधे में धकेला जा रहा है | गरीब ग्रामीण को हर तरह से लालच देकर चल कपट किया गया | नौकरशाहों और अफसरों पर अंकुश नहीं है | लोक सुराज पर ग्राम सुराज के नाम पर केवल आवेदन ही लिए जाते हैं, निराकरण नहीं होता है | सत्ता की मनमानी ने प्रदेश को विकास के नाम पर देश में पीछे छोड़ दिया है | केवल खुद के प्रचार-प्रसार में जनता के पैसों को दुरुपयोग करके असीमित खर्च किया जा रहा है | जनता की आँख में धूल झोंकने वाली रमन सरकार को जनता सबक सीखने को तैयार है |

<blockquote class=”twitter-tweet” data-lang=”en”><p lang=”hi” dir=”ltr”>भूपेश के बाद शैलेश ने पेंड्रा के किसान की आत्महत्या मामले पर रमन सरकार पर साधा निशाना!…बोले – किसानों की लाश में खूनी कमल खिलाने में लगी सरकार- शैलेश – <a href=”https://t.co/Bku4gGfW3J”>https://t.co/Bku4gGfW3J</a></p>&mdash; shailesh pandey (@shailesh30cvru) <a href=”https://twitter.com/shailesh30cvru/status/1005034557056286720?ref_src=twsrc%5Etfw”>June 8, 2018</a></blockquote>
<script async src=”https://platform.twitter.com/widgets.js” charset=”utf-8″></script>

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *