पॉलिटिकल कैफे पॉलिटिकल पंच


क्यों इस बड़े सवाल का उत्तर देने से बचते नजर आए PCC चीफ भूपेश…..ना अटल समर्थकों के कांग्रेस भवन में तोड़फोड़ दिखाई दी, ना ही अशोक अग्रवाल की गाली सुनाई दी…जाने क्या है पूरा मामला

- विज्ञापन-

वैसे तो पीसीसी चीफ भूपेश बघेल सबकी खबर रखने में माहिर माने जाते हैं | भाजपाइयों से लेकर सरकारी अफसरों तक सबकी खूब खबर रखते हैं, भाजपा या प्रशासनिक अफसर कब क्या कर रहे हैं या करने वाले हैं, इन तमाम सवालों का जवाब उनके पास होता है, लेकिन जब आज उनके सामने कांग्रेस पार्टी की सवाल की गई, तो इन बड़े मुद्दों पर  अनभिज्ञता जताते नजर आए, साथ ही ऐसे सवालों से बचते दिखाई दिए |

बता दें बिलासपुर प्रवास में पहुंचे पीसीसी चीफ भूपेश बघेल ने कांग्रेस भवन में मीडिया से चर्चा की | इस दौरान बघेल ईवीएम, अजीत जोगी के मामलों में डंके की चोट में जवाब देते नजर आए, लेकिन जब बात कांग्रेस पर आई, तो बघेल इन सवालों के जवाब देने से बचते दिखाई दिए | भूपेश बघेल से बिलासपुर विधानसभा के प्रत्याशी के नाम ऐलान के बाद कांग्रेस भवन में तोड़फोड़ और शीर्ष नेताओं के खिलाफ नारेबाजी को लेकर सवाल पूछा गया तो बघेल पहले तो पुरे मामले में अनभिज्ञता दिखाया, फिर जब मीडिया से इसी सम्बन्ध में लगातार सवाल आने लगे तो बघेल ने जिला कांग्रेस कमिटी के माध्यम से मामले की जानकारी नहीं मिलने की बात कही, साथ ही जानकारी लेने की बात कही | इसी तरह से कांग्रेस भवन में ही कांग्रेस प्रत्याशी शैलेश पांडेय और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक अग्रवाल के बीच लड़ाई और अशोक अग्रवाल द्वारा ” देखता हूँ चुनाव कैसे जीतोगे” की धमकी से सम्बंधित सवाल पूछा गया तो बघेल इस मामले को भी पहले तो हँसते हुए टालने की कोशिश किये, लेकिन जब सवालों का सिलसिला जारी रहा तो बघेल ने मामले में जानकारी लेने की बात कही |

जबकि इससे थोड़ी देर पहले प्रेस कांफ्रेंस में बीजेपी, जोगी कांग्रेस और सरकारी अफसर की खबर रखने को लेकर बड़ी बड़ी बातें डंके की चोट पर करते दिखाई दे रहे थे | बघेल ने इन मामलों में कहा कि हमें जानकारी है कि चुनावी परिणाम को देखते हुए प्रदेश में बड़ी संख्या में बड़े धनपशु पैर पसारने लगे हैं | विधायकों की खरीद फरोख्त की तैयारी चल रही है | जो पार्टी अंतागढ़, पाली तानाखार, गोवा जैसे जगहों में खरीद फरोख्त को अंजाम दे सकती है, वह छत्तीसगढ़ में भी देने की तैयारी चल रह है, साथ ही रमन सरकार चुनाव जीतने सरकारी मशीनरी का भी उपयोग कर रही है | कांग्रेस के शिकायतों पर कार्रवाई नहीं हो रही है, ना ही धमतरी, बेमेतरा में प्रकाश में आए मामलों पर कार्रवाई की जा रही है |

धमतरी  और बेमेतरा में इस तरह के मामले सामने आए हैं। स्ट्रांग रूम में लाइट,और सीसीटीवी कैमरे को लेकर भी शिकायतें हैं। स्ट्रांग रूम में सील किए गए और बिना सील किए गए ईवीएम एक साथ रखे गए हैं। अब तक एआरओ नियुक्त नहीं किया गया है। इन तमाम बातों पर लगातार शिकायतों के बाद कोई समधानकारक जवाब नहीं मिलने पर कांग्रेस कमेटी ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में एक याचिका लगाई है। कोर्ट ने इसे स्वीकार लिया है और इस पर सुनवाई 10 दिसंबर को होगी।

नक्सलियों के लिए लाई गई सर्विलेंस मशीन का उपयोग खरीद फरोख्त के लिए किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को सभी सर्विलेंस मशीन को अपने कब्जे में ले लेना चाहिए, इसके साथ ही भूपेश ने राज्य सरकार पर फोन टेपिंग का भी आरोप लगाया है, उन्होंने कहा कि सरकार कांग्रेस के प्रत्याशियों और उनके रिश्तेदारों का फोन टेप कर रही है |

जोगी के मामले में बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कभी भी क्षेत्रीय पार्टी को सीट नहीं मिली है, अजीत जोगी को भी सीट नहीं मिल रही है | कांग्रेस स्पष्ट बहुमत के साथ सरकार बना रही है, गठबंधन का तो सवाल कि नहीं उठता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *