चुनाव छत्तीसगढ़ चुनाव

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018 : BJP और कांग्रेस आजमा रही हारे हुए नेताओं पर किस्मत, जानिए पहले चरण में कौन-कौन हारे हुए नेता हैं चुनाव मैदान में

- विज्ञापन-

पहले चरण चुनाव के मतदान होने के लिए महज अब चार दिन ही बाकी रह गए है, ऐसे में चुनाव प्रचार थमने से पहले सभी प्रत्याशी वोटरों को लुभाने में जुट गए गए है, पहले चरण के 18 विधानसभा सीटों में से एक दो सीटों को छोड़कर बाकी सीटों पर  कांग्रेस और बीजेपी के बीच सीधा मुकाबला होगा, इस बार बीजेपी और कांग्रेस ने कुछ सीटों पर नया चेहरा मैदान में उतारा है, जबकि कुछ सीटों पर विधायकों की टिकट काटकर दूसरे प्रत्याशी को मौका दिया है, तो वही कुछ सीटों पर हारे हुए प्रत्याशियों पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें फिर एक बार मौका दिया है | आइए देखते है कांग्रेस बीजेपी ने किस सीट पर हारे हुए प्रत्याशियों पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें दोबारा मैदान में उतारा है | 

विधानसभा खैरागढ़

खैरागढ़ विधानसभा सीट पर भाजपा ने पिछले चुनाव में पराजित होने वाले कोमल जंघेल पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें दोबारा टिकट दिया, इस सीट पर एक बार फिर कोमल जंघेल और गिरवर जंघेल आमने सामने होंगे, बता दें कि इस सीट पर अभी कांग्रेस का कब्ज़ा है, पिछले चुनाव में कांग्रेस के गिरवर जंघेल को 70133 वोट मिला था, जबकि बीजेपी के कोमल जंघेल को 67943 वोट मिला था, जिसमें हार जीत का अंतर 2190 था, साल 2013 में 180440 मतदाता थे,  जबकि इस बार साल  2018 में कुल 1,00,563 मतदाता है |

विधानसभा कोंडागांव

कोंडागांव विधानसभा में इस बार कांग्रेस बीजेपी दोनों प्रत्याशियों के प्रतिष्ठा दांव पर है, कांग्रेस ने इस बार भी अपने विधायक मोहन लाल मरकाम पर भरोसा दिखाया है, वही बीजेपी ने पराजित हुई पूर्व मंत्री लता उसेंडी पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें एक बार फिर कांग्रेस के मोहन लाल मरकाम के खिलाफ मैदान में उतारा है, बता दें कि पिछले चुनाव में  54290 मतदाताओं ने कांग्रेस के मोहन मरकाम को वोट किया था, जबकि बीजेपी के लता उसेंडी को 49155 मतदाताओं ने मतदान किया था, इसमें दोनों के बीच हार जीत का अंतर 5135 मत था | 2013 में कुल 148369 मतदाता थे, इस बार कुल 164637 मतदाता है |

नारायणपुर विधानसभा

विधानसभा नारायणपुर में बीजेपी ने वर्तमान विधायक केदार कश्यप और कांग्रेस ने हारे हुए चंदन कश्यप को टिकट दिया है, एक बार फिर दोनों आमने सामने है, पिछले बार की चुनाव में बीजेपी के केदार कश्यप को 54874 वोट मिला था, वही कांग्रेस के चन्दन सिंह कश्यप को 42074 वोट मिला था, दोनों के बीच हार जीत का अंतर 12800 मत था |  2013 में कुल 160323 मतदाता थे, इस बार कुल 175524 मतदाता है |

विधानसभा दंतेवाड़ा

विधानसभा दंतेवाड़ा में कांग्रेस ने वर्तमान विधायक और महेंद्र कर्मा की पत्नी देवती कर्मा पर भरोसा दिखाते हुए फिर मैदान में उतारा है वहीं बीजेपी ने भी हारे हुए उम्मीदवार भीमाराम मंडावी को टिकट दिया है. दोनों एक बार फिर आमने सामने होंगे, पिछले 2013 की विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के देवती कर्मा को 41417 वोट मिला था, जबकि बीजेपी के भीमाराम मांडवी को 35430 वोट मिला था, दोनों के बीच जीत हार का अंतर 5987 मत था | 2013 में कुल 174963 मतदाता थे, इस बार दंतेवाड़ा में कुल 187343 मतदाता है |

विधानसभा  बस्तर

विधानसभा बस्तर में इस बार काटे की मुकाबला देखने को मिलेगी, इस सीट पर जहां बीजेपी ने अपने हारे हुए पूर्व प्रत्याशी सुभाऊ कश्यप को मैदान में उतारा है, वही कांग्रेस ने भी अपने विधायक पर भरोसा दिखाते हुए लखेश्वर बघेल को फिर मैदान में उतारा है, पिछेल चुनाव में 57656  मतदाताओं ने कांग्रेस के लखेश्वर बघेल को मतदान किया था, जबकि बीजेपी के डॉ सुभाऊ कश्यप को 38774 मतदाताओं ने मतदान किया था, इसमें दोनों के बीच हार जीत का अंतर 19168 वोटों का रहा था | 2013 में कुल  135903 मतदाता थे, इस बार की चुनाव में 153552  मतदाता प्रत्याशियों के भाग्य के फैसले बदलेंगे |

विधानसभा कोंटा

विधानसभा कोंटा में इस बार त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगी, इस सीट पर इस बार दो-दो विधायकों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई, कांग्रेस विधायक कवासी लखमा के खिलाफ इस बार जोगी सीपीआई महा गठबंधन ने पूर्व विधायक मनीष कुंजाम को मैदान में उतारा है, वही बीजेपी ने इस सीट पर अपने पराजित हुए प्रत्याशी धनी राम बरसे पर भरोसा दिखाते हुए मैदान पर उतारा है, पिछले चुनाव में 27610 मतदाताओं ने कांग्रेस के कवासी लखमा को वोट किया था, जबकि बीजेपी के धनी राम बरसे को 21824  वोट मिला, वही सीपीआई के मनीष कुंजाम को 19834 वोट मिला था |  2013 में कुल 156838 मतदाता थे |

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *