ताज़ातरीन

ये दो तेजतर्रार IPS बन सकते हैं जम्मू-कश्मीर, लद्दाख के LG….चंदन तस्कर वीरप्पन के एनकाउन्टर से लेकर छत्तीसगढ़ नक्सल ऑपरेशन पर रहा है अहम् भूमिका….जानिए इनके बारे में

जम्‍मू-कश्‍मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के साथ ही जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के उपराज्‍यपालों को लेकर भी कयासबाजी शुरू हो गई है | जम्‍मू-कश्‍मीर का उपराज्‍यपाल बनने की दौड़ में रिटायर्ड आईपीएस अफसर विजय कुमार और दिनेश्‍वर शर्मा सबसे आगे बताए जा रहे हैं, जहां, विजय कुमार सीमा सुरक्षा बल के आईजी के तौर पर कश्‍मीर घाटी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं, वहीं, आईपीएस अफसर दिनेश्‍वर शर्मा इंटेलिजेंस ब्‍यूरो के निदेशक रह चुके हैं | इन सबको देखते हुए ये कयास लगाया जा रहा है कि इन दोनों अफसरों को सरकार नए पद पर आसीन कर सकती है |

– विज्ञापन –

अजित डोभाल के साथ काम कर चुके हैं शर्मा

आईपीएस विजय कुमार सीमा सुरक्षा बल (BSF) के आईजी के तौर पर कश्‍मीर घाटी में अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वहीं, आईपीएस अफसर दिनेश्‍वर शर्मा इंटेलिजेंस ब्‍यूरो (IB) के निदेशक रह चुके हैं | 1976 बैच के आईपीएस अधिकारी दिनेश्वर शर्मा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल के साथ भी काम कर चुके हैं, शर्मा केरल कैडर से हैं | केरल के अलप्पुझा जिले में डीएसपी का कार्यभार संभाल चुके शर्मा राज्य के कोल्लम और त्रिचूर जिले के एसपी भी रह चुके हैं, इसके अलावा वह केरल खुफिया ब्यूरो में एसएसपी की जिम्मेदारी भी संभाल चुके हैं, वहीं, सरदार बल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी के प्रमुख के तौर पर उन्होंने पुलिस प्रशिक्षण के क्षेत्र में भी महारत हासिल की, शर्मा को पूर्वी जर्मनी, पोलैंड, इजरायल और दक्षिण कोरिया में जासूसी का प्रशिक्षण लेने का भी मौका मिला | शर्मा ने पहले इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के लिए क्वालीफाई किया और बाद में आईपीएस की परीक्षा पास की | शर्मा को अलगाववाद और उग्रवाद से लेकर घरेलू व क्षेत्रीय राजनीति की समस्याओं से निपटने का अनुभव है, वह पुलिस, अर्धसैनिक बल और खुफिया एजेंसियों में शीर्ष पदों पर काम कर चुके हैं |

 

चंदन तस्कर वीरप्पन को ढेर करने वाले विजय कुमार 


आईपीएस अधिकारी के. विजय कुमार तमिलनाडु कैडर के 1975 बैच के आईपीएस विजय कुमार ने 1998 से 2001 तक बीएसएफ के आईजी के तौर पर कश्मीर घाटी में अपनी सेवाएं दी हैं, उस दौरान घाटी में आतंकरोधी अभियान चलाए जा रहे थे. कुमार जंगलों में आतंकरोधी अभियान चलाने में माहिर माने जाते हैं | 2010 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में सीआरपीएफ (CRPF) के 75 जवानों के शहीद होने के बाद विजय कुमार को सीआरपीएफ (CRPF) का महानिदेशक (DG) बनाया गया था. इसके बाद इलाके में नक्सली गतिविधियों में भारी कमी आई थी, कुमार की ही अगुआई में 2004 में कुख्यात चंदन तस्कर वीरप्पन (Veerappan) को मुठभेड़ में मार गिराया गया था |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *