ताज़ातरीन द ब्यूरोक्रेट्स

ख़ुशी के सपनों को मिला नया पंख…कलेक्टर ने कराया इंटरनेशनल स्कूल में एडमिशन…जेल में 6 साल से बेगुनाही की सजा काट रही थी खुशी..जब लिपटकर रोई तो पिता की तरह छलछला गयीं कलेक्टर की आंखें

एक 6 साल की नन्ही सी बच्ची, जो बिना किसी अपराध की सजा काट रही थी जेल में, जेल की चार दीवारों में खुद को देखकर वो घुटन महसूस कर रही थी, वो उड़ना चाहती थी, नीले गगन के तले, छूना चाहती थी उस आसमान को जिसे अक्सर वो सपनों में देखा करती थी, उस बच्ची की उम्र छोटी जरूर थी, पर सपने बहुत बड़े, एक दिन निराशा से भरी उस बच्ची के जिंदगी में आशा के किरण लेके आया एक आईएएस अधिकारी जो उस नन्ही सी बच्ची को जेल की उस चार दीवारों से बाहर निकालकर उनके सपनों एक नयी उड़ान देने कोशिश की है |

– विज्ञापन –

हम बात कर रहे है बिलासपुर कलेक्टर डॉ संजय अलंग की जिन्होंने जेल में अपने पापा के साथ रह रही ख़ुशी को शहर के बड़े इंटरनेशनल स्कूल में सोमवार को भर्ती कराया, वह स्कूल के हॉस्टल में ही रहेगी। खुशी के लिये विशेष केयर टेकर का भी इंतजाम किया गया है। स्कूल संचालक अशोक अग्रवाल ने कहा है कि खुशी की पढ़ाई और हॉस्टल का खर्चा स्कूल प्रबंधन ही उठायेगा। खुशी को स्कूल छोड़ने जेल अधीक्षक एस एस तिग्गा भी गये।

- विज्ञापन-

बता दें कि  करीब एक माह पहले जेल निरीक्षण के दौरान कलेक्टर डॉ संजय अलंग की नजर महिला कैदियों के साथ बैठी खुशी पर गयी थी। तभी वे उससे वादा करके आये थे कि उसका दाखिला किसी बड़े स्कूल में करायेंगे। आज कलेक्टर कलेक्टर डॉ संजय अलंग खुशी को अपनी कार में बैठाकर केंद्रीय जेल से स्कूल तक खुद छोड़ने गये। कार से उतरकर खुशी एकटक स्कूल को देखती रही।

खुशी कलेक्टर की उंगली पकड़कर स्कूल के अंदर तक गयी। एक हाथ में बिस्किट और दूसरे में चॉकलेट लिये वह स्कूल जाने के लिये सुबह से ही तैयार हो गयी थी।

आमतौर पर स्कूल जाने के पहले दिन बच्चे रोते हैं। लेकिन खुशी आज बेहद खुश थी। क्योंकि जेल की सलाखों में बेगुनाही की सजा काट रही खुशी आज आजाद हो रही थी। कलेक्टर की पहल पर शहर के जैन इंटरनेशनल स्कूल ने खुशी को अपने स्कूल में एडमिशन दिया। वह स्कूल के हॉस्टल में ही रहेगी। खुशी के लिये विशेष केयर टेकर का भी इंतजाम किया गया है। स्कूल संचालक अशोक अग्रवाल ने कहा है कि खुशी की पढ़ाई और हॉस्टल का खर्चा स्कूल प्रबंधन ही उठायेगा। खुशी को स्कूल छोड़ने जेल अधीक्षक श्री एस एस तिग्गा भी गये।

आपको बता दें कि खुशी के पिता केंद्रीय जेल बिलासपुर में एक अपराध में सजायफ्ता कैदी हैं। पांच साल की सजा काट ली है, पांच साल और जेल में रहना है। खुशी जब पंद्रह दिन की थी तभी उसकी मां की मौत पीलिया से हो गयी थी। पालन पोषण के लिये घर में कोई नहीं था। इसलिये उसे जेल में ही पिता के पास रहना पड़ रहा था। जब वह बड़ी होने लगी तो उसकी परवरिश का जिम्मा महिला कैदियों को दे दिया गया। वह जेल के अंदर संचालित प्ले स्कूल में पढ़ रही थी।

लेकिन खुशी जेल की आवोहवा से आजाद होना चाहती थी। संयोग से एक दिन कलेक्टर जेल का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने महिला बैरक में देखा कि महिला कैदियों के साथ एक छोटी सी बच्ची बैठी हुयी है। बच्ची से पूछने पर उसने बताया कि जेल से बाहर आना चाहती है। किसी बड़े स्कूल में पढ़ने का उसका मन है। बच्ची की बात कलेक्टर को भावुक कर गयी। उन्होंने तुरंत शहर के स्कूल संचालकों से बात की और जैन इंटरनेशनल स्कूल के संचालक खुशी को एडमिशन देने को तैयार हो गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *